जन्मदिन विशेष: तरुण कुमार वाही (Tarun Kumar Wahi)

तरुण कुमार वाही (Tarun Kumar Wahi)

मित्रों आज बात करेंगे राज कॉमिक्स के लिए शायद सबसे ज्यादा कहानियाँ लिखने वाले जाने माने लेखक श्री तरुण कुमार वाही जी के बारें में. वाही जी ने राज कॉमिक्स के स्वर्णिम दौर में एक से बढ़कर एक बेजोड़ कहानियाँ लिखी और कॉमिक्स पाठकों को अपने कलम के जादू से अपना मुरीद बना लिया.

तरुण कुमार वाही
तरुण कुमार वाही

20 सितम्बर को श्री ‘तरुण कुमार वाही‘ जी का जन्मदिन है और कॉमिक्स जगत एवं कॉमिक्स बाइट के सभी प्रशंसकों की ओर से उन्हें जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं. कॉमिक्स के अलावा तरुण जी कई अन्य पब्लिकेशन के लिए कहानियाँ, नॉवेल और कितार्बों पर भी कार्य किया. IMDB पर ‘आदमखोर’ लघु फिल्म के लिए उन्हें ‘लेखक’ का क्रेडिट दिया गया है.

Tarun Kumar Wahi - Do Faulaad - Vardi Aur Bandook - Raj Comics

वाही जी का कार्यक्षेत्र दिल्ली है और उनकी पढाई भी दिल्ली यूनिवर्सिटी से ही पूर्ण हुई है. राज कॉमिक्स के साथ उन्होंने किंग कॉमिक्स के लिए भी लेखन किया एवं कुछ अन्य कॉमिक्स पब्लिकेशन के साथ भी जुड़े रहे.

बांकेलाल, डोगा, गमराज, एंथोनी, परमाणु, भेड़िया, फाइटर टोड्स और नागराज की भी कुछ कहानियों को वाही जी के लेखन से जीवन मिला.

  • बेदी जी के साथ वाही जी के बेजोड़ मेल ने कॉमिक्स पाठकों दिए ‘बांकेलाल’ के एक से बढ़कर एक नगीने.
  • संजय जी के साथ आए तो ‘डोगा’ का कहर कॉमिक्स के पृष्ठों पर ए.के. 47 की तरह बरसा.
  • अनुपम जी के साथ आएं तो 4 बेख़ौफ़ मेढकों को टोली ने ऐसा धावा बोला, जिन्होंने नागराज और सुपर कमांडो ध्रुव के पसीने निकाल दिए.
  • दिल्ली की छत परमाणु हो या अपराधियों के रूह को ठंडी आग से तड़पाता एंथोनी, जंगल के जल्लाद भेड़िया को भी कोई नहीं भूल सकता और ज़माने के गम डूबा गमराज एवं उसके साथी शंकालू और यमुंडा की जबरदस्त हंसोड़ जोड़ी. ये सब किरदार वाही जी के बेमिसाल कहानियों की नीवं पर कई वर्षों तक टिके रहे.

सभी किरदारों के लिए अलग अलग विषयों पर कहानी लिख देना जैसे वाही जी के लिए एक खेल हो, ये उनके अपने लेखन पर पकड़ और उनके बहुमुखी प्रतिभा को दर्शाता है. आज जब सोचता हूँ तो बड़ा अचंभा होता है की कैसे एक सेट की 6 कॉमिकों में से 2-3 कॉमिक्स में आपकी ही कहानी छप रही हो.

Mard-Aur-Murda
मर्द और मुर्दा

श्री तरुण कुमार वाही, श्री अनुपम सिन्हा, श्री हनीफ़ अजहर, श्री संजय गुप्ता और राज कॉमिक्स के सभी अन्य लेखकों की टीम ने हमारें बचपन को बहुमूल्य अनुभव दिए है. डोगा के ‘खाकी और खद्दर’ और ‘शेर का बच्चा’ नामक कॉमिक्स को भला कौन भूल सकता है, संजय जी के साथ मिलकर वाही जी ने ये कहानियाँ लिखी जो आज भी प्रासंगिक जान पड़ती है.

मनोज गुप्ता और तरुण कुमार वाही 
कल्पना लोक अवार्ड्स - राज कॉमिक्स
मनोज गुप्ता और तरुण कुमार वाही
कल्पना लोक अवार्ड्स – राज कॉमिक्स

राज कॉमिक्स “कल्पना लोक अवार्ड” में वाही जी को “बेस्ट स्क्रिप्ट राइटर” का अवार्ड भी मिल चुका है. राज कॉमिक्स के हास्य किरदार बॉबी, चेरी और डमरू जैसे पात्रों पर भी वाही जी कहानियाँ लिखी है. कॉमिक्स जगत में वाही जी योगदान अनमोल है, वाही जी आज भी सक्रिय है और मेज़ कॉमिक्स के लिए उन्होंने ‘प्रेमंम’ नामक कहानी भी लिखी है.

कहानी - तरुण कुमार वाही
आर्टवर्क - ललित सिंह
प्रेमम - मेज़ कॉमिक्स
कहानी – तरुण कुमार वाही
आर्टवर्क – ललित सिंह
प्रेमम – मेज़ कॉमिक्स

वाही जी हमेशा खुश रहें, मुस्कुराते रहें और अपनी कलम भी चलाते रहें. हम सभी पाठकों की तरफ से एक बार फिर गुरुवर श्री तरुण कुमार वाही जी को जन्मदिन हार्दिक शुभकामनाएं, आभार – कॉमिक्स बाइट!!

श्री तरुण कुमार वाही जी द्वारा रचित कहानियाँ और कॉमिक्स आपको दिए गए लिंक पर मिल जाएंगी – राज कॉमिक्स

Sherlock Holmes Ki Utkrisht Kahaniyan - Part 2 (Hindi) Paperback

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

Leave a Reply

error: Content is protected !!